आखिर क्यों नहीं पता लगा लाल बहादुर शास्त्री के मौत का रहस्य ? जानिए पूरा सच !!

अक्टूबर ये वो दिन है जब हमारे देश के दूसरे प्रधानमंत्री का जन्म हुआ इस देश के बेटे का नाम लाल बहादुर शास्त्री है , लाल बहादुर जी का जीवन बिल्कुल दूध की तरह सफेद था यानी उनके चरित्र पर कभी कोई दाग़ नही लगा था , आज उन्हीं शास्त्री जी के कुछ जीवन के पल हम आपको हमारे इस पोस्ट के द्वारा बताने जा रहे है पर उसके पहले हम आपको बतादें शास्त्री जी ने देश का साथ कभी नही छोड़ा उन्होंने हर मुसीबत से देश को निकाला है , तो चलिए आपको शास्त्री जी के पल बताते है तो देर किस बात की चलिए शुरू करते है ।

9 साल जेल

पूर्व प्रधानंत्री स्वर्गवासी लाल बहादुर शास्त्री जी को असहयोग आंदोलन के दौरान जेल भेजा गया था लेकिन उनकी उम्र कम होने के कारण उन्हें रिहा कर दिया गया था , फिर वापिस उन्हें किसी आंदोलन के चलते जेल भेजा गया था 8 साल के लिए तो लगभग शास्त्री जी 9 साल जेल में रहे ।

एक बार लाल बहादुर शास्त्री जी जेल में थे तो उनके लिए उनकी पत्नी आम लाई थी जिसको उन्होंने खाने से इनकार कर दिया क्यों कि ये नियम के खिलाफ था , फिर एक बार जब वो जेल में थे उनकी बेटी की तबियत खराब हो गई जिसके लिए उन्हें कुछ समय के लिए छोड़ा गया लेकिन वह अवधि पर लौट आए जबकि उनकी बेटी की मृतयु हो गई थी और तो ओर उन्हें जाति के भेदों से साफ नफ़रत थी इसलिए उन्होंने अपने नाम के आगे जाति नही लगाई और उनको दहेज़ प्रथा भी अच्छी नही लगती थी ।

क्या सही में लाल बहादुर जी की मृतयु सामान्य थी ?

पाकिस्तान से हमारे देश का युद्ध चल रहा था लेकिन युद्ध खत्म होने के बाद जब समझौता हुआ उसके अगले दिन रिपोर्ट आई कि शास्त्री जी नही रहे उन्हें हार्ट अटैक आ गया लेकिन इसका कोई सबूत नही था , शास्त्री जी की पत्नी का दावा था कि शास्त्री जी को ज़हर देके मारा गया है ।